टीकमगढ़ पुलिस को मिली बड़ी सफलता, हत्या का ईनामी आरोपी सहित कई गिरफ्तार, संवाद न्यूज के लिए टीकमगढ़ से जमील खांन की रिपोर्ट

0
73

हत्या के अपराध में इनामी वांटेड दो आरोपियों सहित डकैती की
योजना बनाते हुए चार दुर्दांत आरोपी गिरफ्तार दो फरार

चार आग्नेय शस्त्र 8 जिंदा कारतूस बरामद

पुलिस अधीक्षक श्री अनुराग सुजानिया ने बताया कि दिनांक 30 .0619 को अजेन्द्र यादव की हत्या करके आरोपी प्रमोद यादव अपने साथियों के साथ फरार हो गया था जिस पर से थाना निगोड़ा में अपराध क्रमांक 190 / 19 पंजीबद्ध हुआ था। घटना के बाद से ही आरोपी प्रमोद यादव के विरुद्ध आस-पास के गांव में बड़ा आक्रोश था क्योंकि उक्त दुर्दांत अपराधी जिला बदर होकर भी टीकमगढ़ क्षेत्र में विचरण कर रहा था।

इस घटना के बाद से ही पुलिस अधीक्षक ने कड़े निर्देश एसडीओपी जतारा प्रदीप राणावत को दिए थे की जिला बदर होकर एक अपराधी यदि जिले के किसी क्षेत्र में अपराध कर रहा है तो यह गंभीर बात है इसके लिए तत्काल मुखबिर लगाकर इसकी गिरफ्तारी सुनिश्चित करें ।

पिछले 2 दिनों से लगातार ऐसी सूचनाएं मिल रही थी कि जिला बदर फरार आरोपी प्रमोद यादव ने फरारी के दौरान एक गैंग बना ली है और अपने साथियों के साथ किसी बड़ी घटना को अंजाम देने वाला है। विश्वस्त सूत्रों के द्वारा यह भी ज्ञान हुआ था कि पूर्व में थाना दिगोड़ा के अपराध क्रमांक 159/09 धारा 307 364 323 294 302 201 34 ताहि0 मैं माननीय सत्र न्यायालय से हत्या के प्रकरण में इसको आजीवन कारावास हो चुका है जिस पर यह अभी माननीय उच्च न्यायालय से जमानत पर है। सूत्रों के द्वारा यह भी जानकारी प्राप्त हो रही थी कि लगातार फरार रहने के कारण इसको पैसों की तंगी हो गई थी और जिन गांव में लोगों से डरा धमका कर यह पैसा वसूला करता था । उन्होंने भी हाथ खींच लिए हैं अपराधी प्रमोद यादव को अभी पैसों की बहुत जरूरत थी एवं दुर्दांत अपराधी होने के कारण इसको पता था कि इस हत्या में गिरफ्तार होने के बाद अब वह जेल से बाहर नहीं आ पाएगा ।

पूर्व में भी इसके विरुद्ध हत्या एवं हत्या के प्रयासों सहित 16 मामले इसके ऊपर थाना लिधौरा और दिगौड़ा में पंजीबद्ध हैं

इसलिए इसने यह सोचना चालू कर दिया था कि सारी जिंदगी जेल में काटने से बेहतर है कि कोई बड़ा काम डकैती या लूट करके सारे पैसे लेकर पुलिस की गिरफ्त से कहीं दूर चला जाए। इसी योजना को मूर्त रूप देने के लिए प्रमोद यादव ने एक गैंग बना ली थी। ऐसा पता चल रहा था कि इसके साथ ही सभी आपराधिक प्रवृत्ति के हैं और साथ मिलकर कोई बड़ी घटना को अंजाम देने वाले हैं।। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि लगातार इसकी गतिविधियों को वॉच किया जा रहा था पिछले 2 दिनों से इसका मूवमेंट दिगौड़ा लिधौरा थाने में चल रहा था।। कल रात्रि में पुलिस अधीक्षक को सूचना प्राप्त होने पर की ग्राम बछोड़ा खेड़ा के पास मोहारा रोड पर रोड से करीब 1 फर्लांग एक पेड़ के नीचे 5-6 बदमाश हथियारों से लैस होकर बैठे हैं दो मोटरसाइकिल खड़ी है जो कहीं बड़ी वारदात करने की योजना बना रहे हैं। सूचना पर पुलिस अधीक्षक द्वारा एसडीओपी जतारा प्रदीप सिंह राणावत को आवश्यक निर्देश देकर तत्काल कार्यवाही करने के लिए बताया गया। उक्त सूचना पर पुलिस को अहम सफलता मिली जब थाना दिगोड़ा, जतारा एवं लिधौरा पुलिस के संयुक्त अभियान व चालाकी से घेराबंदी के द्वारा चार दुर्दांत अपराधियों को डकैती की योजना बनाते हुए पकड़ा गया जिन्होंने बाद में अपना नाम प्रमोद यादव पिता रामदास यादव निवासी ग्राम बीरउ थाना दिगौड़ा मजबूत सिंह यादव पिता राजाराम यादव निवासी उदयपुरा थाना लिधौरा जय हिंद सिंह घोष पिता तिलक सिंह घोष निवासी ग्राम चैनपुरा खेड़ा बछोडा थाना दिगौड़ा करण यादव पिता लक्ष्मी यादव निवासी लिधौरा का होना बताया जिन्हें गिरफ्तार किया गया मौके से इनके दो साथी भागने में सफल हुए जिनके नाम बाद में करण यादव पिता विजय यादव निवासी पटवारी मोहल्ला मऊरानीपुर जिला झांसी एवं छोटू यादव पिता मुलायम यादव निवासी ग्राम बछोडा थाना दिगौड़ा के होना मालूम हुए।।
दोनों ही अनुभाग जतारा के थानों में वांछित हैं हत्या में फरार आरोपी प्रमोद यादव से जब पूछा गया तो उसने स्वीकार किया कि अब पूरी जिंदगी जेल में काटने थी इसलिए बड़ा काम करके पैसे लेकर कहीं दूर चला जाता।

घटनास्थल से एवं आरोपी प्रमोद यादव के कब्जे से 315 बोर का एक कट्टा दो जिंदा कारतूस 315 बोर के आरोपी करण यादव के कब्जे से 315 बोर का एक कट्टा दो जिंदा कारतूस 315 बोर के आरोपी मजबूत यादव के कब्जे से 12 बोर का एक कट्टा दो जिंदा कारतूस 12 बोर के आरोपी जय हिंद घोष के कब्जे से 12 बोर का एक कट्टा दो जिंदा कारतूस प्रथक प्रथक विधिवत जप्त

किए गए थाना दिगौड़ा पर अपराध क्रमांक 212 धारा 399 402 भादवि एवं 25 27 आर्म्स एक्ट का पंजीबद्ध किया गया है ज्ञातव्य है कि आरोपी प्रमोद यादव के विरुद्ध कुल 16 प्रकरण पंजीबद्ध है जिनमें एक हत्या के प्रकरण में इसको आजीवन कारावास की सजा हुई है जमानत पर है थाना दिगौड़ा से

जिला बदर होकर क्षेत्र में होने पर धारा 188 धारा एवं मध्य प्रदेश राज्य सुरक्षा अधिनियम की धारा 14 का अपराध प्रथक से पंजीबद्ध किया गया है ।

ऐसी जानकारी है इसके साथ ही करण यादव मऊरानीपुर में एक हत्या के प्रकरण में वांछित है एवं एक स्थाई वारंट थाना जतारा पर लंबित है एवं मजबूत यादव के विरुद्ध थाना लिधौरा में मारपीट एवं धारा 353 भदबी के कुल 5 अपराध पंजीबद्ध हैं इस शानदार कार्यवाही के लिए पुलिस महानिरीक्षक श्री सतीश सक्सेना ने टीम के सभी सदस्यों थाना प्रभारी जतारा ऊनि आनंद सिंह परिहार थाना प्रभारी लिधौरा ऊनी प्रदीप सराफ थाना प्रभारी दिगौड़ा एसके पुष्पद ऊनि मनोज द्विवेदी पाउनी हरिशंकर गौर सउनी उदय राज सिंह गौड़ आरक्षक 832 राहुल यादव आरक्षक 808 अरुण चौहान आरक्षक 800 अरुण शर्मा आरक्षक 89 महेंद्र आरक्षक चालक 241 पुष्पेंद्र प्रधान आरक्षक 340 रामकिशोर आरक्षक 12 सूर्य प्रताप आरक्षक 177 आरक्षक 991 सुनील दुबे, आरक्षक प्रदीप यादव, आरक्षक विजय शुक्ला को पुरस्कृत करने की घोषणा की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here