मोरवा.जयंत मार्ग पर सड़क हादसे में फिर हुई एक युवक की मौत आक्रोशित लोगों ने अलग मार्ग बनाने 4 घंटे तक किया आवागमन बाधित,सिंगरौली से संवाद न्यूज ब्यूरो गोविन्द राज की रिपोर्ट

0
144

सिंगरौली ( संवाद news)- मोरवा.जयंत मार्ग पर सड़क हादसे में सोमवार की सुबह कोयला वाहन की चपेट में बाईक आने से बाईक चालक की मौके पर मौत हो गई। जबकि उस पर सवार एक अन्य युवती गंभीर रूप से घायल हो गई। घटना की सूचना मिलने के बाद एसडीओपी राजीव पाठक एवं मोरवा निरीक्षक मनीष त्रिपाठी अपने दल बल के साथ मौके पर पहुँचकर लोगों को समझाने का प्रयास कर रहे थे । तब आक्रोशित लोगों ने कोयला परिवहन के लिए अलग मार्ग बनाने एवं मृतक के परिजनों को के उचित मुआवजे की मांग को लेकर आवागमन बाधित कर दिया।

जिससे दोनों तरफ करीब 10 किलोमीटर की दूरी में वाहनो की लंबी कतारें लग गई। तथा मोरवा जयंत मार्ग पुरी तरह से बाधित हो गया। इसके पहले रविवार की सायं भी सड़क दुर्घटना में बाईक सवार एक एनसीएल कर्मी की मौत हो गई थी। मिली जानकारी के अनुसार रविवार सुबह मोरवा जयंत मार्ग पर सड़क दुर्घटना में झिगुरदा बस्ती निवासी शिव कुमार सिंह पिता शिव बंधन सिंह ए 25 वर्ष किसी अन्य युवती को लेकर जयंत जा रहा था रास्ते में जयंत की तरफ ही जा रहे कोल वाहन क्रमांक न्च् 64 ।ज् 0684 की चपेट में आ गया। जिसमे गंभीर चोट आने से मौके पर ही मौत हो गई। वही बाइक पर सवार युवती भी घायल हो गई जिसे उपचार हेतु नेहरू शताब्दी चिकित्सालय जयंत में भर्ती कराया गया है। इस हादसे के बाद सड़क के दोनों तरफ वाहनों का लंबा जाम लग गया। रविवार की सायं एवं सोमवार की सुबह की घटना से आक्रोशित क्षेत्रीय लोग घटना स्थल पर पहुंच कर नारेबाजी करते हुए विरोध प्रदर्शन करने लगे। भारी संख्या में क्षेत्रीय लोगों ने घटनास्थल पर पहुंचकर एनसीएल प्रबंधन के विरुद्ध कड़ा विरोध जाताया । हालात बिगड़ते देख एसडीएम सिंगरौली ऋषि पवार समेत नवानगर टीआई रावेन्द्र द्विवेदी भी भारी बल के साथ मौके पर पहुंच गए थे। लगातार हो रहे इन सड़क हादसों से लोगों को अब इस रोड पर निकलने में भी डर लगता है। जिला मुख्यालय से जोड़ने वाली इस सड़क पर लोग जान जोखिम में डालकर चलने को मजबूर हैं। सिंगरौली जयंत मार्ग पर कोयले का उड़ता गुब्बारे साफ दर्शाता है कि हरित क्रांति से दूर एनसीएल प्रबंधन केवल कोयले की उत्खनन और प्रेषण में जोर दे रहा है। खानापूर्ति की हद तो देखिए कोयले के गुबार को दबाने के लिए सड़कों पर पड़ी कोयले की परत को हटाना भी कभी मुनासिब नहीं समझा जाता। प्रतिदिन लगातार उसके ऊपर ही पानी का छिड़काव कर दिया जाता हैए जिस कारण दुपहिया वाहन यहां फिसलते रहते हैं। प्रशासन व महाप्रबंधक के आश्वासन पर आवागमन बहाल जयंत मोरवा मार्ग पर आए दिन हो रहे सड़क दुर्घटना में लोगों की मौत होने से आक्रोशित सैकड़ों क्षेत्रीय लोगों के द्वारा लगाये गए जाम की सूचना मिलने के घंटो बाद मौके पर प्रशासन की ओर से एसडीएम ऋषि पवार एवं एनसीएल महाप्रबंधक चार्लस जूस्टर एवं पुलिस प्रशासन की मौजूदगी में मृतक के परिजन को 4 लाख मुआवजा एवं विस्थापित होने से एनसीएल में नौकरी एवं एक भाई को ओबी कंपनी में नौकरी के आश्वासन के साथ ही जयंत मोरवा मार्ग के चौड़ीकरण ए मरम्मत का कार्य कराने एवं 1 जनवरी से निगाही परियोजना से इस मार्ग पर कोयला ट्रांसपोर्टिंग प्रतिबंधित करने एवं जयंत परियोजना का कोयला अंदर अंदर ही ट्रांसपोर्टिंग करने के आश्वासन के बाद चक्का जाम आंदोलन समाप्त हुआ। इस मौके पर जयंत क्षेत्र के महाप्रबंधक के साथ ही स्थानीय लोगों में शेखर सिंहए विनोद सिंह कुरुवंशी सहित भारी संख्या में क्षेत्रीय लोग एवं महिलाए मौजूद रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here