बुंदेलखंड पन्ना यहां किसान कर रहे धान तुलाई केंद्र में इंतजार, पन्ना संवाद न्यूज सिटी ब्यूरो सचिन खरे की स्पेशल रिपोर्ट

0
92

प्रशासन और समिति से नहीं है व्यवस्थाएं हो सकता है कोई भी बड़ा हादसा। एक बार बर्बादी की कगार पर खड़ा किसान

पन्ना।जहां एक तरफ पूरे देश में किसान तीन बिल को लेकर हाहाकार मच आए हुए हैं और एक महीना लगभग होने आया अभी तक कोई भी किसानों की समस्याओं का समाधान नहीं हुआ है चाहे उत्तर प्रदेश मध्य प्रदेश दिल्ली पंजाब हरियाणा दिल्ली जहां पर 3 बिल को लेकर किसानों के चेहरों पर नाराजगी दिखाई दे रही है। किसान आक्रोशित नजर आ रहे हैं और लाखों की तादात में किसान धरना दे रहे हैं ऐसी कड़कड़ाती ठंड में आज 23 दिन हो चुके हैं और किसानों को अभी तक कोई भी हरी झंडी नहीं दिखाई दे रही है लगातार अपनी मांगों को मनाने के लिए आए हुए हैं तो वही ऐसी कड़कड़ाती ठंड में मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में धान खरीदी केंद्रों के हालात बद से बदतर नजर आ रहे हैं तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि किस तरीके से धान खुले में रखी हुई है और जिम्मेदार ठेकेदार व जिम्मेदार अधिकारी व समिति लापरवाही कर रहे हैं मौसम का कोई भरोसा नहीं कब इंद्रदेव नाराज हो जाएं और तब बारिश हो जाए कब बादल छा जाए कोई भरोसा नहीं ऐसे में हजारों कुंटल  धान बर्बादी की कगार पर तस्वीरों में आप देख रहे हैं इस तरीके से खुले में पड़ी है किसी को भी यह दिखाई नहीं दे रहा। तीन-चार दिन से इस कड़कड़ाती ठंड में किसान धान तुलाई के लिए इंतजार कर रहे हैं कि कब धान तुलाई हो और कब वह इस ठंड से निजात पा सकते हैं क्योंकि जिले में अधिक तुलाई केंद्र हैं यहां पर किसानों की व्यवस्थाओं को अगर देखा जाए धान तुलाई पर तो किसानों का कहना है कि हम लोगों को व्यवस्थाओं के नाम पर कुछ भी नहीं है ना ही  यहां पर लकड़ी जली हुई है नाही यहां पर हम लोगों को रुकने की व्यवस्था है किसान विश्रामगृह बना हुआ है पर उस पर ताला लटका हुआ है साथ में तुलाई में भी बहुत सारी अनियमितताएं सामने देखने को मिल रही है सही मापदंड जो शासन के द्वारा तुलाई  केंद्र बनाया गया है उस हिसाब से धान तुलाई नहीं की जा रही है धान तुलाई में भी भारी भ्रष्टाचारी चल रही है ऊपर से ऐसी कड़कड़ाती ठंड अगर इसी तरीके से किसानों के साथ अन्याय होता रहा तो धान खरीदी केंद्र में कोई भी हादसा अगर हो गया तो इसका जिम्मेदार अध्यक्ष होगा क्योंकि जब मीडिया मौके पर पहुंची तो वहां पर ना ही सोशल डिस्टेंस दिखा और ना ही मजदूरों को मास दिए गए मुंह पर बांधने को।जबकि जिले में अभी भी लगातार कोरोना का कहर जारी है और संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है जब अध्यक्ष से बात की जिनका नाम बृजेश महाराज है तो वह सभी किसानों के सामने झूठ बोल रहे थे तस्वीरों में आप देख सकते हैं स्पष्ट है कि वह खुद अपने मुंह पर मास्क नहीं बांधे हुए हैं और जब हमने उनसे बात  करने को कहा तो उन्होंने बात में अपनी गलती को माना आखिर यह गलती किसकी लापरवाही से की जा रही है यह समझ में नहीं आ रहा पर कहीं ना कहीं प्रशासन को भी इस पर गौर करना चाहिए क्योंकि जब नगर के अंदर गल्ला मंडी के हालात इस तरीके से हैं तो फिर जो धन खरीदी केंद्र बाहर दूसरी तहसीलों में बनाए गए हैं उनके क्या हालात होंगे यह तो आप आगे आप ही समझ सकते हैं तस्वीरों को देख कर किसानों का कहना है कि अगर यही हालात बने रहे तो कोई भी हादसा हो सकता है किसान के साथ यदि आप और हम सब यही अच्छी तरह से जानते हैं कि अभी किसानों की समस्याओं का तीन बिल को लेकर समाधान नहीं हुआ है किसान लगातार रोड पर है और सरकार से संशोधन की मांग में खड़े हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here