कोरोना को फैलने से रोकना पहली प्राथमिकता,पॉजिटिव केसों की संख्या बढ़ने न पाये -मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

0
22

रीवा 02 मई 2020. प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग में कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता कोरोना को फैलने से रोकना है। प्रदेश में कोरोना मरीजों की उच्च गुणवत्ता का परीक्षण एवं स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने से अब प्रदेश में कोरोना संक्रमण से ग्रसित व्यक्ति विशेष कर पॉजिटिव मरीज कम आ रहे हैं जबकि स्वस्थ्य होकर मरीज अधिक संख्या में घर वापस जा रहे हैं। यह प्रदेश के लिए सुखद स्थिति है। यह स्थिति प्रत्येक जिले में बनाये रखी जाय। कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक संयुक्त रूप से मिलकर कन्टेनमेंट एरिया को कड़ाई के साथ सील करें ताकि आवागमन की स्थिति न बने और पॉजिटिव मरीज की संख्या न बढ़ने पाये। उन्होंने कहा कि जिलों में अच्छे प्रयास कर रेड जोन के जिलों को ओरेंज जोन में एवं ओरेंज जोन के जिलों को ग्रीन जोन में लाने के हर संभव प्रयास किये जाय।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 प्रोटोकॉल के तहत ग्रीन जोन में भी मास्क पहनना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि ग्रीन जोन में लॉकडाउन से दी गयी छूट में भी यह सुनिश्चित किया जाय कि दुकानों में एक समय में पांच से अधिक व्यक्ति एकट्ठे न होने पाये। दुकानदार अपने दुकान के सामने दो गज की दूरी में गोले बनाये जिसमें लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सामग्री की खरीदारी कर सकें। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाय कि कन्टेनमेंट एरिया से कोई भी व्यक्ति बाहर न जाय और बाहर वाला व्यक्ति अंदर न जाने पाये। उन्होंने कहा कि दूसरे प्रदेशों में काम करने वाले मजदूर बड़ी संख्या में प्रदेश में आ रहे हैं। उनकी घर जाने के पहले स्क्रीनिंग की जाय और घर में ही रहकर वे 14 दिवस तक अनिवार्य रूप से होम क्वॉरेंटाइन रहें। उन्होंने कहा कि कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक संयुक्त रूप से सुनिश्चित करें कि ग्रीन जोन में गाइडलाइन का आवश्यक रूप से पालन किया जाय। ग्रीन जोन के जिलों में लॉकडाउन खोलकर आवश्यक गतिविधियाँ प्रारंभ की जाय इसके लिए क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक आयोजित की जाय। उन्होंने कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता कोरोना वायरस को फैलने से रोकना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हाई रिस्क क्षेत्र में कोई भी छूट नहीं देना है। इस क्षेत्र में कड़ाई के साथ लोगों को बाहर निकलने से रोकना है। कोई भी व्यक्ति पॉजिटिव न होने पाये। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक रोजगार के अवसर सृजित करने के लिए मनरेगा योजना में काम प्रारंभ किये जाय। इसी प्रकार वन विभाग द्वारा तेदूपत्ता संग्रहण का कार्य प्रारंभ हो रहा है। उसमें लोगों को कार्य दिया जाय। जीवन शक्ति योजना के तहत महिला समूहों द्वारा मास्क बनाने का कार्य किया जा रहा है। स्कूलों में गणवेश तथा रेडी टू ईट में स्वसहायता समूहों को काम दिया जाय।
मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीबों एवं बेसहारा व्यक्तियों के लिए खाद्यान्न का आवंटन जारी किया गया है। यह सुनिश्चित किया जाय कि प्रत्येक पात्र व्यक्ति को अनिवार्य रूप से खाद्यान्न मिले। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा संबल योजना पुन: प्रारंभ की जा रही है। किसानों के खाते में 2290 करोड़ रूपये डाले गये हैं। कर्मकार मंडल श्रमिक के खाते में दूसरे चरण में एक हजार रूपये डाले गये हैं। सुनिश्चित करें कि हितग्राही बैंक से उपरोक्त राशि आहरित करें। उन्होंने कहा कि मंडियों को अनावश्यक रूप से बंद न किया जाय सुनिश्चित करें कि प्रत्येक मंडी खुली रहे जिससे किसान सौदा पत्रक एवं अन्य माध्यम से व्यापारी को अपनी उपज बेंच सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि समर्थन मूल्य पर गेंहू का उपार्जन रिकार्ड मात्रा में किया जा रहा है। यह सुनिश्चित किया जाय कि हम्माल और मजदूरों को मजदूरी का भुगतान अनिवार्य रूप से किया जाय। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में पुलिस प्रशासन पूरी तरह से चुस्त रहे और कानून व्यवस्था बनाये रखे। अपराधों को पूरी तरह से नियंत्रित किया जाय। इसे कड़ाई के साथ रोका जाय।
वीडियो कान्फ्रेंसिंग में रीवा एवं शहडोल संभाग के कमिश्नर डॉ. अशोक कुमार भार्गव, आईजी चंचल शेखर, पुलिस अधीक्षक आबिद खान, जिला पंचायत सीईओ अर्पित वर्मा, संयुक्त आयुक्त पीसी शर्मा, उप संचालक सतीश निगम, डीन ए.पी.एस. गहरवार, सीएमएचओ डॉ. आर.एस. पाण्डेय सहित जिला अधिकारी उपस्थित थे।

कमलेश कुशवाहा, एमडी संवाद न्यूज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here